संत रविदास की राम-कहानी

Continue Reading संत रविदास की राम-कहानी

संत रविदास की राम-कहानी कवि देवेन्द्र दीपक की प्रथम औपन्यासिक रचना है। लेकिन इसमें एक अनोखापन है। अधिकतर जीवनियां जिस ढ़ंग से लिखी जातीं हैं, वह उतनी प्रभावी नहीं हो पाती, क्योंकि जीवनी पात्र पाठक से सीधा संवाद स्थापित नहीं कर पाते हैं।

सिंह बन्दर

Continue Reading सिंह बन्दर

सिंह बन्दर को अंग्रेजी में ‘लायनटेल्ड मकाक मकाका साइलेनस’ (थ्ग्दहूग्त् श्म श्म्म् एग्तहल्े) कहा जाता है। हिन्दी में सिंह बन्दर या शेर बन्दर कहते हैं।

घर खरीदते समय बरतें सावधानियां

Continue Reading घर खरीदते समय बरतें सावधानियां

बहुत दिनों से ग्रह संकुलों के विज्ञापनों में गुप्त में टीवी, फर्नीचर, सोना-चांदी अथवा कार का आकर्षक प्रलोभन दिखाया जाता है। किंतु एक जगह भी ऐसा नहीं कहा जाता कि बिना कोई तोड़-फोड़ किये पूरी तरह से वास्तु मार्गदर्शन की सुविधा प्रदान की जायेगी।

विशाल अमर है

Continue Reading विशाल अमर है

यह कोई आकस्मिक घटना नहीं थी। पिछले कुछ दिनों से इस तरह की कई घटनायें हो चुकी हैं। सभी घटनायें एक ही तरह की हैं। काफी दिनों से पापुलर फ्रंट द्वारा राज्य में आतंक फैलाने की साजिश चल रही है। ये घटनायें उनकी सोची-समझी रणनीति का ही हिस्सा हैं। ये सारे आतंकी कार्य पापुलर फ्रंट द्वारा सुनियोजित तरीके से की जा रहे हैं।

प्रणब मुखर्जी बने 13 वें राष्ट्रपति

Continue Reading प्रणब मुखर्जी बने 13 वें राष्ट्रपति

संवैधानिक रूप से देश के सर्वोच्च पद, राष्ट्रपति के चुनाव का यज्ञ जुलाई माह में पूरा हो गया । लगभग चार दशक की सक्रिय राजनीति के बाद प्रणब मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति बन गये। उन्होंने 25 जुलाई को शपथ ग्रहण करने के साथ ही अपना कार्यभार संभाल लिया।

पुणे का धमाका : सुरक्षा पर उठे सवाल

Continue Reading पुणे का धमाका : सुरक्षा पर उठे सवाल

पुणे के बाल गंधर्व थियेटर के पास विगत 11 अगस्त की शाम 7.37 से 8.15 बजे के बीच चार बम विस्फोट हुए। ये धमाके बहुत कम विस्फोटक क्षमता वाले भले थे और इनमें जान-माल का कोई खास नुकसान नहीं हुआ था। लेकिन राज्य में सुरक्षा को लेकर यह एक गंभीर घटना है।

सामने की खिड़की में बैठा वह

Continue Reading सामने की खिड़की में बैठा वह

दफ्तर जाने को निकलता हूं कि नजर अपने-आप ऊपर जाती है। मैं रहता हूं उसके पास वाले मकान में पांचवां मंजिल की खिड़की में बैठा होता है। शांति से आने-जाने वाले लोगों को देखता रहता है। सुबह सात से ग्यारह बजे तक तथा शाम को सात से रात के ग्यारह बजे तक खिड़की में बैठने का उसका समय हैं, यह मैं अच्छी तरह से जानता हूं।

थोड़ी सी मिली है सफलता, अभी बहुत है बाकी

Continue Reading थोड़ी सी मिली है सफलता, अभी बहुत है बाकी

सुपर मॉम मेरी कोम ने महिलाओं के 51 किलो वर्ग में ह्युनोशिया की मारौली राहाली को 6-15 से हराया। पुरुषों का खेल माने जाने वाले बॉक्सिंग में मुक्केबाजी में कांस्य पदक दिलाकर भारत की महान नारी बन गयीं।

‘कसाबी’ मनोवृत्ति का परिचय

Continue Reading ‘कसाबी’ मनोवृत्ति का परिचय

दही-हंडी का पर्व अत्यंत उत्साह से मनाने के बाद निश्चिंत हुए मुंबई वासियों को अगले ही दिन भारी दहशत का सामना करना पड़ा। आसाम और म्यानमार में घुसपैठी मुसलमानों पर हो रहे तथाकथित अत्याचार के विरोध में रजा अकादमी तथा अन्य मुस्लिम संगठनों ने प्रदर्शन किया।

हनुमान के किरदार के रूप सदैव पहचाने जाएंगे दारासिंह

Continue Reading हनुमान के किरदार के रूप सदैव पहचाने जाएंगे दारासिंह

अभिनेता तथा रुस्तम ए हिंद दारा सिंह का विगत 12 जुलाई को निधन हुआ। उनका पूरा जीवन किसी फिल्म के समान ही आंखों के सामने से गुजरा, जिससे उनके बहुआयामी व्यक्तित्व की पहचान होती है।

2016 में बन जाएगा शिक्षा जगत का आदर्श केंद्र

Continue Reading 2016 में बन जाएगा शिक्षा जगत का आदर्श केंद्र

समाज की प्रगति ही मनुष्य की प्रगति है, इस प्रगति के लिए कुछ ऐसा करना पड़ता है, जो सबसे अलग हो, समाज के लिए आदर्श हो तथा जिसमें मानव मात्र का हित हो ।

चतुर्मास में तांबा-पीतल का महत्त्व

Continue Reading चतुर्मास में तांबा-पीतल का महत्त्व

भारतीय संस्कृति में हर दिन का अपना-अपना विशेष महत्त्व है। हर माह की पूर्णिमा, अमावस्या, चतुर्थी, एकादशी का अपना एक स्थान है। इसी को त्यौहार या उत्सव कहते हैं। इस दिन को की जाने वाली विधि, कुलाचार, पूजा सुनिश्चित है।

End of content

No more pages to load