हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

पहले सेहत, फिर काम

Continue Reading

घर और दफ्तर की जिम्मेदारियां संभालती कामकाजी महिलाएं, कई बार खुद के प्रति जिम्मेदारी को गंभीरता से नहीं लेतीं। चूंकि आप पर दोहरी जिम्मेदारी होती है, इसलिए आपको अपनी सेहत के प्रति अधिक गंभीर और सचेत होना चाहिए।

योग : जीवन का एक विज्ञान

Continue Reading

नियमित रूप से आसन और प्राणायाम का अभ्यास करके लोगों को उच्च रक्तचाप एवं हृदय संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाया जा सकता है। व्यक्ति अपने फेफड़ों की क्षमता विकसित कर सकता है, मानव शरीर को शुद्ध और श्वसन प्रणाली एवं तंत्रिकाओं को भी साफ किया जा सकता है।

योग – एक जीवन ज्ञान

Continue Reading

योग का संबंध अपने मन से है। पंच महाभूतों से बना शरीर यही ज्ञान देता है कि पंचतत्वों का सात्विक या तामसी स्वरूप मनुष्य की मानसिक अवस्था का दार्शनिक रूप है। सामान्य मानव को शरीर और मन की सुप्त शक्ति का अंदाजा नहीं होता। योग साधक अपनी अखंड योग साधना से इन सुप्त शक्तियों को जागृत करता है।

हर बच्चा है खास

Continue Reading

अंग्रेजी एजुकेशन सिस्टम हमें गिटिर-पिटिर अंग्रेजी बोलनवाले ग्रेजुएट देगी, जो चाय कीदुकानों पर जॉबलेस रह कर सिर्फ देश की बदहाली पर चर्चा करते मिलेंगे। वास्तविकता के धरातल पर वह देशहित में योगदान देने में असमर्थ होंगे। आज हम उसी दौर में शामिल हो गए हैं।

स्टाइल का विज्ञान फैशन साइकोलॉजी

Continue Reading

फैशन शब्द पढ़ने या सुनने में जितना आसान प्रतीत हो रहा है, वास्तव में यह उतना आसान है नहीं। ’फैशन साइकोलॉजी’ का दायरा कपड़े और मेकअप से ज्यादा विस्तृत है।

तबाही और सवाल छोड़ गया है ‘फानी’

Continue Reading

चक्रवाती तूफानों के नाम रखने की भी एक दिलचस्प प्रक्रिया है। अलग-अलग देश तूफानों के नाम सुझा सकते हैं। बस शर्त यह होती है कि नाम छोटे, समझ में आने लायक और ऐसे हों जिन पर सांस्कृतिक रूप से कोई विवाद नहीं हो। फानी तूफान का नामकरण बांग्लादेश की ओर से किया गया है और बांग्ला में इसका उच्चारण फोनी होता है और इसका मतलब सांप है।

परिवार संस्था का पुनर्वास

Continue Reading

यदि देश में, समाज में समृद्धि, संपन्नता आती है, आर्थिक विकास और टेक्नॉलजी के प्रभाव से समाज के रहन-सहन के स्तर में बढ़ोत्तरी होती हैं और उसके फलस्वरूप में समाज में मर्यादाओं, परंपराओं तथा मूल्यों का स्खलन होता है, तो क्या समाज विकास न करें, हमेशा मानवीय मूल्यों की कीमत पर स्वयं को परंपराओं की सीमा में कैद रखें?

परवरिश

Continue Reading

बच्चे एक गीली मिट्टी के समान हैं। उनका प्रारूप हमारी परवरिश तय करती है। अत: एक सशक्त समृद्ध राष्ट्र के निर्माण के लिए बच्चों का सर्वमुखी विकास बेहद जरूरी है।

क्या बच्चे अंक उगलनेवाली मशीन हैं?

Continue Reading

आज समाज को यह निर्णय लेना अत्यंत आवश्यक है कि वे बच्चों को अंकों और कृत्रिम सुख सुविधाओं के पीछे भागने वाली मशीन बनाना चाहता है या भावनाओं से ओतप्रोत आत्मशांति से युक्त संवेदनशील और सफल इंसानबनाना चाहता है।

पश्चिम बंगाल रक्तरंजित लोकतंत्र और भ्रष्ट राजनीति

Continue Reading

पश्चिम बंगाल ही हिंसा और बवाल की त्रासदी झेल रहा है। लोकतंत्र को खून से सींचने वाले राजनेताओं को सत्ता मिल जाती है, लेकिन हिंसा की भेंट चढ़ने वाले उस आम आदमी को क्या मिलता है?

भारत भी ‘इस्लामिक स्टेट’ की रडार पर

Continue Reading

श्रीलंका में हुए शृंखलाबद्ध विस्फोट स्थानीय आतंकवादी गुटों की सहायता से ‘इसिस’ ने करवाए थे, यह बात साफ हो चुकी है। मध्यपूर्व में पराजित होते ‘इस्लामिक स्टेट’ ने अब एशिया पर नजर रखी है। उनकी राडार पर भारत भी है। इसलिए हमें बेहद सतर्क रहना होगा।

सुप्रीम कोर्ट और विवादित फैसले

Continue Reading

सुप्रीम कोर्ट के इन वर्षों में कई विवादास्पद फैसलें आए हैं। कुछेक को भेदभावपूर्ण माना जाता है। जलिकुट्टु, सबरीमाला, दहीहांडी, दीवाली पर पटाखे पर पाबंदी आदि ऐसे फैसले हैं जिन्हें समाज ने कभी स्वीकार नहीं किया। इससे निष्पक्ष न्याय-व्यवस्था पर ही प्रश्नचिह्न खड़ा होता है।

End of content

No more pages to load

Close Menu