त्रिगुनरूप भगवान दत्तात्रय

Continue Reading त्रिगुनरूप भगवान दत्तात्रय

गीता के इस श्लोक में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि जो व्यक्ति समर्पण भाव से मेरे पास आता है, मैं उसे भयमुक्त करता हूं और हमेशा उसकी रक्षा करता हूं। भगवान अपने भक्तों की रक्षा के लिये और कालानुरूप अवतार लेते है।

दामाद बनाम दामाद

Continue Reading दामाद बनाम दामाद

भारतीय पारिवारिक व्यवस्था में दामाद को काफी सम्मान दिया जाता है। ससुराल में सास से लेकर साले तक सभी उसकी मिजाजपुर्शी में लगे रहते हैं। वैसे इन दिनों जिस दामाद की देश-विदेश में बड़ी चर्चा है, वे हैं कांग्रेस के दामाद अर्थात यूपीए की राजमाता सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा।

थिंक टैंकरों के बीच

Continue Reading थिंक टैंकरों के बीच

मैं ठहरा सीधा सरल गंवई इन्सान। थिंक और थिंकिंग से मेरा पूर्व जन्म में भी कोई संबंध नहीं रहा; पर कभी-कभी हालत सांप-छछूंदर जैसी हो जाती है। अर्थात न निगलते बने और न उगलते। परसों भी ऐसा ही हुआ।

भरतफुर फिर झूम उठा

Continue Reading भरतफुर फिर झूम उठा

जो तिथि फर नहीं आता वह अतिथि कहलाता है। भरतफुर के मेहमान इस बार वाकई अतिथि हैं। कई तिथि से फहले ही आ फहुंचे हैं और अन्य कई आ रहे हैं। भारी संख्या में आ रहे हैं। फिछले एक दशक के बाद फहली बार ऐसा हुआ है।

चिर विजय की कामना है, कर्म की आराधना है

Continue Reading चिर विजय की कामना है, कर्म की आराधना है

भारत का मुकुट बने हिमाचल प्रदेश में सत्ता का मुकुट किसके सिर पर चमकेगा, इसका निर्णय प्रदेश की जनता कर चुकी है। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव जिन कारकों पर निर्धारित होगा, उनमें मुख्यधारा, राजनीतिक दलों की स्थिति का समावेश है। सत्ताधारी दल की कारगुजारियों का भी चुनाव परिणाम पर असर पड़ेगा।

बाल ठाकरे-एक विकास यात्रा

Continue Reading बाल ठाकरे-एक विकास यात्रा

एक व्यंग्यचित्रकार, फिर मुंबई जैसे विविध संस्कृतिवाले शहर का राजकीय नेता, इसके बाद महाराष्ट्र राज्य पर शासन करने वाले दल का प्रमुख, और अब एक अखिल भारतीय स्तर के दल का प्रमुख नेता और राजकीय प्रणेता। यह सफर तय करनेवाले व्यक्ति का नाम है- बाल केशव ठाकरे अर्थात बाला साहब ठाकरे।

शहीद-हुतात्मा शब्दों की व्याख्या न बदलें

Continue Reading शहीद-हुतात्मा शब्दों की व्याख्या न बदलें

शहीद हुतात्मा आदि शब्दों को सुनते ही मन में रोमांच की लहर दौड जाती है। फ्राचीन इतिहास हो, विदेशी आक्रमणकारियों के विरुद्ध लड़ाई हो, स्वतंत्रता संग्राम हो या फिर देश फर लादा गया युद्ध हो, हर बार देश की, समाज की, रक्षा करने के लिये स्वयं के फ्राणों की आहुति देनेवाले वीरों के चेहरे सामने आने लगते हैं ।

संघर्ष वैचरिक है सत्ता का नहीं

Continue Reading संघर्ष वैचरिक है सत्ता का नहीं

नरेन्द्र भाई मोदी ने गुजरात चुनवों के संदर्भ में कहा था कि,‘‘20 दिसंबर को हम फिर से दीवाली मनायेंगे।’’ इसका अर्थ है कि नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में गुजरात में फिर से भाजफा की जीत होगी। चुनाव में उतरनेवाला फ्रत्येक दल अपनी जीत की ही घोषणा करता है, कोई भी हारने की बात नहीं करता। हारनेवाली कांग्रेस भी जीत की ही घोषणा करती है।

शिव-समर्थ योग प्रदाता पुस्तक

Continue Reading शिव-समर्थ योग प्रदाता पुस्तक

‘राष्ट्रगुरु समर्थ रामदास और छत्रपति शिवाजी महाराज’ मराठी के जाने माने लेखक, वक्ता, आध्यात्मिक चिंतक श्री सुनीलजी चिंचोलकर की बहुचर्चित एवं सम्मानित पुस्तक ‘चिंता करितो विश्वाची’ का हिंदी अनुवाद जबलपुर के समर्थ भक्त श्री सुरेश तोपखानेवाले ने किया है, जो कि हिंदी भाषियों के लिए अनुपम उपहार है।

सक्षम परंतु उपेक्षित ईशान्य भारत

Continue Reading सक्षम परंतु उपेक्षित ईशान्य भारत

नामक संस्था के द्वारा उत्तर पूर्व में भारत की एकता को कायम रखनेे के लिये किये प्रयासों के लिये नाबाम अतुम को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। उन्होंने उत्तर-पूर्व के विषय में चिंता दर्शाते हुए निम्न विचार व्यक्त किये।

पाकिस्तानी शिक्षा पर तालिबानी कहर

Continue Reading पाकिस्तानी शिक्षा पर तालिबानी कहर

‘शिक्षा’ के द्वारा आज तक मानव का सांसाारिक और व्यक्तिगत उत्थान ही हुआ है, फरंतु यही शिक्षा फाकिस्तान में मृत्यु और मानवीय संवेदनाओं के फतन का कारण बन रही है।

विशेष सामार्थ्यवान व्यक्ति है विकलांग

Continue Reading विशेष सामार्थ्यवान व्यक्ति है विकलांग

विकलांगता कोई मांगता नहीं, किस को किस प्रकार की विकलांगता आएगी यह बात जन्म से पहले नहीं कही जा सकती। अगर कोई बच्चा विकलांगता लेकर जन्म लेता है, तो उसके माता-पिता, परिजनों, रिश्तेदारों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

End of content

No more pages to load