कांग्रेस की वामपंथी कलाबाजी

Continue Reading कांग्रेस की वामपंथी कलाबाजी

कांग्रेस वामपंथियों की कलाबाजियों का ऐसा चित्र प्रस्तुत करती है, जो अव्यक्त चित्र याने माडर्न आर्ट की तरह होता है। तीस्ता सीतलवाड़ की गुजरात में साम्प्रदायिक शक्तियों के खिलाफ तथाकथित यात्रा और कांग्रेस पदाधिकारी शबनम आजमी का निष्पक्ष समाजसेवी बनकर घूमना इसके नमूने हैं। उनका मूल मकसद भाजपा के खिलाफ जनमत बनाना ही होता है।

देशी व विदेशी मीडिया की भारत विरोधी जुगलबंदी

Continue Reading देशी व विदेशी मीडिया की भारत विरोधी जुगलबंदी

देश में कई पत्रकार ऐसे हैं जिन्हें मोदी सरकार, भाजपा व राष्ट्रीय विचार रखने वाले व्यक्तियों व संगठनों के खिलाफ अभियान चलाना ही है। दुर्भाग्य की बात यह है कि इस राजनीतिक खेल को पत्रकारिता का आड़ में अंजाम दिया जा रहा है।

किसानों का नहीं, केवल टिकैत का आंदोलन

Continue Reading किसानों का नहीं, केवल टिकैत का आंदोलन

कृषि कानून विरोधी आंदोलन 26 जनवरी के पहले जितना प्रचंड दिख रहा था, उसका पासंग भी अब रहा नहीं। यह कमजोर किसानों के बीच ही निष्प्रभावी और पर्दे के पीछे से सक्रिय राजनीतिक चेहरों को सामने लाने के कारण अपनी छवि विकृत कर चुका है।

मुसलमानों के प्रति बदलता दुनिया का नजरिया

Continue Reading मुसलमानों के प्रति बदलता दुनिया का नजरिया

जर्मनी जुलाई 2020 में बुर्का और नक़ाब को विद्यालयों-विश्वविद्यालयों में प्रतिबंधित कर चुका है। स्विट्जरलैंड ने अभी कुछ दिनों पूर्व ही जनमत करा बुर्का पर प्रतिबंध लगाया है। श्रीलंका ने बीते दिनों 1000 मदरसों को बंद करने के साथ-साथ बुर्के को भी प्रतिबंधित करने की घोषणा की है। ऑस्ट्रेलिया में भी इसे लेकर व्यापक विमर्श जारी है।

क्या धोखेबाजी से बाज आएगा पाकिस्तान?

Continue Reading क्या धोखेबाजी से बाज आएगा पाकिस्तान?

भारत-पाकिस्तान के बीच फिर एक बार संघर्ष विराम समझौता हुआ है और चीन भारत के बीच भी सीमा पर शांति समझौता हुआ है। लेकिन यह कितने दिन चलेगा, यह आशंका सदा बनी रहेगी क्योंकि, पीठ में खंजर घोंपने की चीन-पाकिस्तान की पुरानी आदत है इसलिए समझौते के बाद भी भारत को अधिक चौकन्ना रहने की आवश्यकता है।

मानवीय असंवेदनाओं की होम डिलीवरी

Continue Reading मानवीय असंवेदनाओं की होम डिलीवरी

हाल ही में बंगलुरु में हुई घटना ने ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस पूरी प्रक्रिया में किसकी कितनी गलती थी, यह तो जांच के बाद पता चलेगा ही; परंतु दो अनजान व्यक्तियों के बीच कुछ ही पलों में हाथापाई की नौबत आ जाए यह समाज के किस पहलू की ओर इशारा कर रहा है? भारतीय समाज में यह किस प्रकार की संस्कृति शामिल होती दिखाई दे रही है?

राष्ट्र संगठन का वैचारिक अधिष्ठान-डॉ. हेडगेवार

Continue Reading राष्ट्र संगठन का वैचारिक अधिष्ठान-डॉ. हेडगेवार

डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार जी ने अपने लिए कहीं कोई घर नहीं बनवाया; संपूर्ण हिंदुस्थान उनका घर बन गया। उन्होंने अपनी मातृभूमि को परम वैभव तक ले जाने का संदेश राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के माध्यम से दिया। आज विभिन्न क्षेत्रों में करोड़ों स्वयंसेवक उसी मार्ग पर चल रहे हैं। प्रस्तुत है इस वर्ष 1 अप्रैल को डॉक्टर जी की 133वीं जयंती पर यह विशेष आलेख। 

दक्षिण में उभरती भाजपा

Continue Reading दक्षिण में उभरती भाजपा

दक्षिण के तीन राज्यों- तमिलनाडु, केरल व पुदुचेरी  में विधान सभा चुनाव की गहमागहमी है। तमिलनाडु में भाजपा अन्नाद्रमुक के साथ चल रही है तो पुदुचेरी में उसे सफलता मिलने की उम्मीद है। केरल में पिछली बार उसने मात्र एक सीट जीती थी, लेकिन अब की बार मेट्रो मैन श्रीधरन के चुनाव मैदान में उतरने से सीटें बढ़ सकती हैं।

कांग्रेस का मुस्लिम परस्त चेहरा

Continue Reading कांग्रेस का मुस्लिम परस्त चेहरा

पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने अलग-अलग राज्यों में मुस्लिम नेताओं और उनकी पार्टियों के साथ गठबंधन किया है जिसके चलते कांग्रेस का मुस्लिम परस्त चेहरा उभर कर सामने आया। इससे कांग्रेस के भीतर भी यह सवाल उठ रहा है कि क्या धर्मनिरपेक्षता के नाम पर चल रहा पाखंड कांग्रेस को नैतिक व राजनीतिक रूप से कमजोर कर रहा है?

बंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

Continue Reading बंगाल में भाजपा का पलड़ा भारी

पश्चिम बंगाल के चुनावी रण में ममता बनर्जी को भाजपा ने मुश्किल में डाल रखा है लेकिन भाजपा की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि वह अब तक ऐसा कोई चेहरा नहीं खोज पाई है जिसे वह ममता बनर्जी के सामने भावी मुख्यमंत्री के रूप में प्रस्तुत कर सके।

End of content

No more pages to load