कालचक्र

Continue Reading कालचक्र

“बियानी जी की आंखों से गंगा -जमुना बह रही थीं। वे बोले, भगवान अच्छे कर्मों का फल कैसे, कहां देंगे, यह तो हमें पता नहीं चलता। बेटा, कालचक्र में क्या कुछ निहित है कोई नहीं जानता...”

लॉलीपॉप का नशा

Continue Reading लॉलीपॉप का नशा

लॉलीपॉप मानवाधिकारों का एकाधिकार हो चली है, लालीपॉप की मिठास को विषाक्त रसायन में बदल देने वाला अधिकार। जी हां रसायन, केमिकल। ये केमिकल ऐसा रिएक्शन हैं कि देश द्रोहियों के शवों पर मानवता के लहू में उबाल आ जाता है और शहीदों के लहू में न जाने कौन सा वायरस है कि सारे परजीवियों, सहजीवियों, बुद्धिजीवियों की जुबाने क्वारनटाईन पर चली जाती हैं।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का संकट

Continue Reading पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का संकट

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार वृद्धि और उससे बढ़ती महंगाई की मार से लोग परेशान दिखाई देते हैं। यदि राज्य सरकारें जनहित को देखते हुए केंद्र की ही तर्ज पर वैट की दर कुछ घटा दें तो राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतें 15 रुपये तक कम हो जाएंगी, जो बहुत बड़ी राहत होगी; क्योंकि जनता 75 से 80 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल को अब सामान्य मानने लगी है।

गर्मियों में भी रहे कूल

Continue Reading गर्मियों में भी रहे कूल

इसी माह से गर्मी के तेवर बढ़ने शुरू हो जाएंगे, अतः हमें अपने पहनावे और खानपान के प्रति अधिक सतर्क होना पड़ेगा ताकि हम गर्मी की परेशानियों व बीमारियों से बच सकें।

स्वदेशी सोशल मीडिया- एप्प की दरकार

Continue Reading स्वदेशी सोशल मीडिया- एप्प की दरकार

वर्तमान में वेबसाइटों, जीपीएस व अन्य प्लेटफार्मों के जरिए विदेशी एजेंसियां भारतीय सूचनाओं को प्राप्त कर क्लाउड में उसे संग्रहित कर लेती हैं। भारतीय संसाधनों के इस तरह के दुरुपयोग को रोकने और आत्मनिर्भर बनने के लिए देश का एक कोर कॉमन एप्लीकेशन उपलब्ध कराने की दिशा में त्वरित कदम उठाने की जरूरत है।

उत्तराखंड में भाजपा का मास्टरस्ट्रोक

Continue Reading उत्तराखंड में भाजपा का मास्टरस्ट्रोक

उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन के भाजपा के निर्णय से जहां पार्टी और प्रदेश की जनता खुश है वहीं विपक्ष को कुछ कहते नहीं बन पा रहा है। उसके हौसले एकदम पस्त हो गए हैं।

नारी राष्ट्र की आधारशिला

Continue Reading नारी राष्ट्र की आधारशिला

टुकड़े-टुकड़े गैंग का एक हिस्सा नारीवादी संगठन हैं, जो महिला मुक्ति के नाम पर राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल हैं और समाज को तोड़ने के षड्यंत्र में लगी हुई हैं। महिलाओं और युवाओं को इनके नापाक मंसूबों से सतर्क होना चाहिए। सरकार को भी उनके खिलाफ उचित कदम उठाने चाहिए।

फास्ट टैग टोल के झोल से मुक्ति

Continue Reading फास्ट टैग टोल के झोल से मुक्ति

बीओटी में बनने वाली सड़कों की लागत सड़क बनाने वाली कम्पनियों द्वारा एक दीर्ध अवधि तक टोल वसूली कर निकाली जाती है। कम्पनियां कम टोल कलेक्शन बताकर इस अवधि को अक्सर बढ़वा लेती रही है। इसे उच्च स्तरीय भ्रष्टाचार का केंद्र माना जाता रहा है। अब मोदी सरकार ने इस पूरी प्रक्रिया को डिजिटली पारदर्शिता के साथ जोड़ने का बुनियादी काम करके दो मोर्चों पर काम किया है।

कोरोना से प्रदीर्घ युद्ध आरंभ

Continue Reading कोरोना से प्रदीर्घ युद्ध आरंभ

भारत में फिलहाल कोवैक्सीन व  कोविशील्ड नामक दो वैक्सीनों से टीकाकरण का अभियान विशाल पैमाने पर चल रहा है। कोवैक्सीन देश में निर्मित पूर्णतः स्वदेशी वैक्सीन है, जबकि कोविशील्ड ऑक्सफोर्ड के फार्मूले पर भारत में निर्मित वैक्सीन है। दोनों वैक्सीनों की प्रभावकारिता लगभग 81% है और वे सुरक्षित मानी गई हैं। भारत एक तरह से वैक्सीन उत्पादन का केंद्र बन चुका है।

कलात्मक अराजकता पर अदालत भी सख्त

Continue Reading कलात्मक अराजकता पर अदालत भी सख्त

ओटीटी पर दिखाई जाने वाली सामग्री को लेकर अब एक दिशानिर्देश जारी कर दिया है लेकिन इस दिशानिर्देश में न तो सजा का प्रावधान है और न ही किसी प्रकार के दंड का। सर्वोच्च अदालत ने इस पर कड़ी टिप्पणी की है, इसलिए सरकार की ओर से अब पुनर्विचार किया जा रहा है।

एच. जे. दोशी हॉस्पिटल का कोरोना काल में योगदान

Continue Reading एच. जे. दोशी हॉस्पिटल का कोरोना काल में योगदान

मेडिकल डायरेक्टर डॉ. वैभव देवगिरकर के संग अधिकतर ऐसे कर्मचारी थे जो घड़ी की ओर देखते ही नहीं थे ताकि आपदा की यह घड़ी टल जाये। अपने निर्धारित कार्य को करते हुए भी स्टाफ को जो भी कार्य दिया गया या कहा गया उन्होंने उसे पुरे मनोयोग से पूरा किया।

भीम-मीम की राजनीति

Continue Reading भीम-मीम की राजनीति

पाकिस्तान जाने का दुख उन्हें सालता रहा। पाकिस्तान के बहुसंख्यक मुस्लिमों के हाथों लाखों दलितों के नरसंहार का पश्चाताप उन्हें कचोटता रहा। पश्चाताप इसलिए, क्योंकि इनमें से बहुत से दलित परिवार उन्हीं की अपील पर पाकिस्तान का हिस्सा बनने को तैयार हुए थे।

End of content

No more pages to load