ठाकुर अनिल सूरजनाथ सिंह

Continue Reading ठाकुर अनिल सूरजनाथ सिंह

महाराष्ट्र में और खासकर मुबंई में आज कल जो खास राजनैतिक समस्या है और राजनैतिक पार्टियों द्वारा इसे समय-समय पर उठाया भी जाता है वह है परप्रान्तियों की समस्या।

भारतीयता की वाहक हिंदी

Continue Reading भारतीयता की वाहक हिंदी

लगभग एक दशक पहले सात समुद्र पार अमेरिका में भारतीय साहित्य पर एक संगोष्ठी हुई थी, जिसमें भारत की सोलह भाषाओं के शीर्ष रचनाकारों ने हिस्सा लिया था।

काशी विश्वनाथ का महत्व

Continue Reading काशी विश्वनाथ का महत्व

खाक भी जिस जमीं की पारस है,शहर मशहूर वह बनारस है । ‘श्री काशी’, ‘वाराणसी’,‘बनारस’,‘मोक्ष नगरी’,‘मुक्ति क्षेत्र’ इत्यादि नामों से जग विख्यात परम पावन पुण्य नगरी है काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग क्षेत्र।

उत्तर प्रदेश के वीर पुरुष

Continue Reading उत्तर प्रदेश के वीर पुरुष

इतिहास में उन्हीं व्यक्तियों का नाम अंकित होता है, जो मानव जाति के कल्याण के लिए अपना जीवन अर्पित कर देते हैं। स्वयं कष्ट उठाकर दूसरों का दुःख दूर करने का कार्य वीरता की श्रेणी में आता है।

उत्तर प्रदेश में संघकार्य

Continue Reading उत्तर प्रदेश में संघकार्य

सच पूछा जाए, तो उत्तर प्रदेश में संघकार्य का शुभारंभ मा. भाऊराव देवरसजी के बहुत पहले याने सन 1931 में ही हो चुका था। वीर सावरकर के बड़ेे भाई श्री बाबाराव सावरकर से डॉ. हेडगेवार के बड़े घनिष्ठ संबंध थे।

उत्तर प्रदेश की शौर्य गाथा

Continue Reading उत्तर प्रदेश की शौर्य गाथा

शौर्य, युद्ध शास्त्र, सुरक्षा व्यवस्था का उत्तर प्रदेश से घनिष्ठ सम्बंध रहा है। पौराणिक काल के युद्धों और राष्ट्र सुरक्षा पर गौर करें तो स्पष्ट होगा कि रामायण और महाभारत काल से ही उत्तर प्रदेश में वीरता, अन्याय पर न्याय की विजय, अराजकता पर सुराज्य की विजय की परिपाटी और मनोवृत्ति का संवर्धन हुआ है।

युगीन परम्पराओं का वाहक

Continue Reading युगीन परम्पराओं का वाहक

उत्तर प्रदेश के उत्तर में उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश, पश्चिम में हरियाणा, दक्षिण में मध्य प्रदेश तथा पूर्व में बिहार राज्य है। उत्तर प्रदेश को दो प्रमुख भागों में विभक्त किया जा सकता है :

तेलंगाना के बहाने

Continue Reading तेलंगाना के बहाने

निचोड़ यह है कि भाषा राज्यों के निर्माण का सीमित आधार है; विकास, भौगोलिक सम्पर्क, आर्थिक और सामाजिक विकास और अंत में सुशासन बुनियादी बातें हैं। राष्ट्रीय अस्मिता के आगे क्षेत्रीयता गौण है। डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर और सरदार वल्लभभाई पटेल यही बात कहते थे।

मुंबई के लिए समर्पित उत्तर भारतीय‡ आर. एन. सिंह

Continue Reading मुंबई के लिए समर्पित उत्तर भारतीय‡ आर. एन. सिंह

कुछ लोगों के सपने साकार होते हैं, कुछ लोगों के नहीं, परन्तु कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनके सपने स्वयं के साथ‡साथ समाज कल्याण से भी जुड़े होते हैं। ऐसी ही एक सख्शियत हैं आर.एन. सिंह । सुरक्षा से सम्बन्धित व्यवसाय करने वाले आर.एन. सिंह सामाजिक और लोक-कल्याण के कार्यों के लिए अधिक प्रसिद्ध हैं। प्रस्तुत है इसी सन्दर्भ में उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

सत्ता का केन्द्र उत्तर प्रदेश

Continue Reading सत्ता का केन्द्र उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश उत्तर वैदिक काल में ब्रह्मर्षि देश या मध्य देश के नाम से जाना जाता था। यह वैदिक काल में कई महान ऋषियों, मुनियों जैसे भारद्वाज, गौतम, याज्ञवल्क्य, वशिष्ठ, विश्वामित्र और वाल्मीकि आदि की तपोभूमि रहा।

उत्तर प्रदेश की सन्त परम्परा

Continue Reading उत्तर प्रदेश की सन्त परम्परा

उत्तर प्रदेश की सन्त परम्परा भगीरथी परम्परा है । वाल्मीकि, भारद्वाज, याज्ञवल्क्य, अत्रि, वशिष्ठ, विश्वामित्र जैसे ऋषि‡मुनियों के ज्ञान से पोषित परम्परा ने ‘भक्ति काल’ में जिस उत्कर्ष को छुआ, उसमें तत्कालीन परिस्थितियों, विषम राजनैतिक वातावरण के बीच जन-सामान्य की निराशा और

पौराणिक और ऐतिहासिक उत्तर प्रदेश

Continue Reading पौराणिक और ऐतिहासिक उत्तर प्रदेश

पौराणिक और ऐतिहासिक दृष्टि से उत्तर प्रदेश की गौरवपूर्ण पहचान रही है। अधिकांश पुराणों की रचनाएं उत्तर प्रदेश की आध्यात्मिक और ऊर्जास्वित पावन भूमि पर ही हुई हैं।

End of content

No more pages to load